उच्‍च अधिकारियों ने किसान नेताओं के साथ की बैठक, 26 जनवरी की ‘ट्रैक्‍टर रैली’ के लिए सुझाए हैं रूट : सूत्र

उच्‍च अधिकारियों ने किसान नेताओं के साथ की बैठक, 26 जनवरी की 'ट्रैक्‍टर रैली' के लिए सुझाए हैं रूट : सूत्र

26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) को रैली निकालने के फैसले पर किसान अब तक अडिग हैं (फाइल फोटो)

खास बातें

  • किसान नेताओं के अनुसार, अफसरों ने रैली के लिए सुझाए हैं खास रूट
  • किसान नेताओं ने कहा है, शनिवार को बैठक में लेंगे इस बारे में निर्णय
  • 26 जनवरी को ट्रैक्‍टर रैली निकालने की योजना पर अडिग हैं किसान

नई दिल्ली:

Kisan Aandolan: हरियाणा, दिल्ली व यूपी के उच्च अधिकारियों ने कृषि कानूनों (Farm laws) के मुद्दे पर आंदोलनरत किसानों की ओर से 26 जनवरी को रिंग रोड पर निकाली जाने वाली ट्रैक्‍टर रैली (Tractor Rally) के मसले पर किसान नेताओं के साथ बात की. किसान नेताओं के साथ यह बैठक बाराखम्भा पुलिस स्टेशन पर हुई, किसान नेताओं के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, बैैैैठक के दौरान उच्च अधिकारियों ने किसान नेताओं को 26 जनवरी के दिन सिंघू बार्डर से नरेला होते हुए बवाना औचन्दी बार्डर तक, टिकरी से घेवरा आसौदा होते हुए केएमपी पर, यूपी गेट से आनन्द विहार डासना होते हुए केएमपी पर, चिल्ला से गाजीपुर, पलवल से गाजीपुर, जयसिंह पुर खेड़ा से मानेसर होते हुए टिकरी पर परेड करने के लिए प्रपोजल दिया है.

यह भी पढ़ें

गतिरोध पर भारी मन से बोले कृषि मंत्री, ‘किसान संगठनों ने वार्ता के मुख्य सिद्धांत का पालन नहीं किया क्‍योंकि..’

किसान नेताओं ने कहा कि शनिवार, 23 जनवरी को 11 बजे सिंघू बार्डर पर मीटिंग करके इस बारे में फैसला लेंगे. बैठक में डॉ. दर्शनपाल, जगजीत सिंह दल्लेवाल, योगेन्द्र यादव, कामरेड हनान मोल्ला, जगमोहन सिंह, परमजीत सिंह और राजेन्द्र दीप आदि किसान नेताओं ने भाग लिया.

”गेंद अब आपके कोर्ट में हैं”: कृषि कानूनों को रोकने के प्रस्‍ताव पर किसानों के इनकार के बाद सरकार

उच्‍च अधिकारियों के साथ मीटिंग के पहले, आज सुबह NDTV से बात करते हुए भारतीय किसान यूनियन (असली) के नेता चौधरी हरपाल सिंह ने कहा था कि 26 जनवरी को हम दिल्ली के रिंग रोड के साथ-साथ उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में ट्रैक्टर रैली निकालेंगे. पूरे यूपी में विरोध प्रदर्शन होंगे. उन्‍होंने कहा कि जब तक भारत सरकार तीनों कानून रद्द नहीं करती, चाहे 6 महीना लगे या एक साल, हमारा विरोध जारी रहेगा. यह आर-पार की लड़ाई है.

Newsbeep

कुछ लोग किसानों का फायदा उठा रहे हैं- कृषि मंत्री

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *