पूरे महीने 14 जिलों में नहीं हुई किसी कोरोना संक्रमित की मौत, 8 दिन झारखंड में नहीं हुई एक भी डेथ

  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • No Corona Infected Died In 14 Districts In Entire Month, Not A Single Death In 8 Days In Jharkhand

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची/धनबाद/जमशेदपुर38 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • जनवरी में 10 जिलों में किसी ना किसी दिन कोरोना संक्रमित की मौत हुई पर वो भी 2 से ज्यादा नहीं रही

नया साल झारखंड में कोरोना को कमजोर करता नजर आ रहा है। जहां रोजाना मिल रहे नए कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या कम हुई है। वहीं संक्रमित मरीजों की हो रही मौत पर भी लगाम लगी है। 28 जनवरी तक 8 दिन ऐसे भी थे, जब झारखंड में एक भी कोेरोना संक्रमित मरीजों की मौत नहीं हुई। वहीं, इस माह 14 जिलों में एक भी दिन किसी संक्रमित की जान नहीं गई। बाकी 10 जिलों में किसी ना किसी दिन कोरोना संक्रमित की मौत हुई पर वो भी 2 से ज्यादा नहीं रही।

इन जिलों में नहीं हुई 28 जनवरी तक एक भी मौत

चतरा, देवघर, दुमका, गिरिडीह, गोड्‌डा, जामताड़ा, खूंटी, कोडरमा, लातेहार, लोहरदगा, पाकुड़, साहेबगंज, सरायकेला और सिमडेगा

सबसे ज्यादा मौत रांची में

जनवरी जहां 10 जिलों के लिए कोरोना को लेकर ज्यादा तनाव वाला नहीं रहा। वहीं, रांची में सर्वाधिक मौतें हुई। जनवरी में राजधानी रांची में 15 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई। दूसरे नंबर पर रहा धनबाद। यहां इस माह 9 मरीजों की जान गई।

अब तक 1069 संक्रमितों की हो चुकी है मौत

झारखंड में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 1069 हो गई है। इनमें 70 साल की उम्र के सबसे ज्यादा 279 मरीज शामिल हैं। वहीं, राज्य में अब 628 संक्रमित मरीज ही एक्टिव हैं। झारखंड में 1,18,557 संक्रमित मरीजों की पहचान हो चुकी है। इनमें से ठीक होने वालों की संख्या 1,16,818 तक जा पहुंची है।

लोगों में इम्यूनिटी डेवलप हुआ

कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी और मौत कम होने के पीछे सबसे बड़ी वजह लोगों का जागरूक होना और शरीर में इम्यूनिटी का डेवलप होना माना जा रहा है। इस संबंध में खूंटी सिविल सर्जन डॉ. प्रभात कुमार ने बताया कि मौत का परसेंटेज कम रहा है। दूसरी ओर लोगों के शरीर में कोविड-19 वायरस को लेकर इम्यूनिटी डेवलप हुआ है। इससे अब लोग संक्रमित होने पर भी ज्यादा सीरियस नहीं हो रहे हैं। वैक्सीनेशन अभी बहुत कम हुआ है इसलिए अभी इसे वजह नहीं माना जा सकता है।

मौत के आंकड़े

मौत के आंकड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *