फांसी से पहले नाथूराम गोडसे ने लिखी थी वसीयत, आज भी अधूरी है यह अंतिम इच्छा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पुणे2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
फांसी पर लटकाने से ठीक 1 दिन पहले 14-11-1949 को जेल में बैठकर गोडसे ने अपनी वसीयत लिखी थी। - Dainik Bhaskar

फांसी पर लटकाने से ठीक 1 दिन पहले 14-11-1949 को जेल में बैठकर गोडसे ने अपनी वसीयत लिखी थी।

आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है। इस मौके पर हम आपको उनके हत्यारे और पुणे में कभी टेलरिंग का काम करने वाले नाथूराम गोडसे की अंतिम वसीयत के बारे में बताने जा रहे हैं। गोडसे की अंतिम इच्छा आज भी अधूरी है, जिसमें उन्होंने अपनी राख सिंधु नदी में विसर्जित करने की बात कही थी।

नाथूराम की वसीहत।

नाथूराम की वसीहत।

‘गांधी, वध और मैं’ नाम की किताब में प्रकाशित है यह वसीहत
यह वसीयत (पत्र) गोडसे ने 14-11-1949 यानी अपनी फांसी से ठीक एक दिन पहले अपने छोटे भैया दत्तात्रेय विनायक गोडसे के नाम जेल से लिखा था। उनके भाई गोपाल गोडसे ने इसे अपनी किताब ‘गांधी, वध और मैं’ ने इसे प्रकाशित किया है। इस पत्र में नाथूराम गोडसे ने अपने बीमा के पैसों को भाई दत्तात्रेय गोडसे, उनकी पत्नी और उनके दूसरे भाई की पत्नी को देने को कहा था। साथ ही, अंतिम संस्कार का सारा अधिकार भी दत्तात्रेय गोडसे को दिया था। गोडसे ने अपनी अस्थियों को सिंधु नदी में प्रवाहित करने की बात भी लिखी है। वसीयत में नाथूराम गोडसे का नाम सबसे नीचे लिखा हुआ है।

पुणे के शिवाजी नगर में एक बिल्डर के ऑफिस में आज भी नाथूराम की अस्थियां रखी हैं।

पुणे के शिवाजी नगर में एक बिल्डर के ऑफिस में आज भी नाथूराम की अस्थियां रखी हैं।

यहां आज भी रखी है गोडसे की अस्थियां
पुणे के शिवाजी नगर के अजिंक्य डेवलपर्स के ऑफिस में आज भी कांच के एक केस में नाथूराम की अस्थियां संभाल कर रखी गई हैं। यही पर गोडसे के कुछ कपड़े और हाथ से लिखे नोट्स भी रखे गए हैं। गोडसे से जुड़ी यह निशानियां शिवाजी नगर इलाके में बने जिस कमरे में रखी हैं वह अजिंक्य डेवलपर्स का दफ्तर है। नाथूराम गोडसे के भाई गोपाल गोडसे के पोते अजिंक्य गोडसे ने बताया कि, “इन अस्थियों का विसर्जन सिंधु नदी में ही होगा और तभी होगा जब उनका अखंड भारत का सपना पूरा हो जाएगा।”

गोडसे की गिरफ्तारी के बाद अदालत में सुनवाई के दौरान की एक तस्वीर। लाल घेरे में नाथूराम गोडसे।

गोडसे की गिरफ्तारी के बाद अदालत में सुनवाई के दौरान की एक तस्वीर। लाल घेरे में नाथूराम गोडसे।

जर्जर हो चुका है नाथूराम का मकान
अजिंक्य ने बताया,”मेरे दादाजी की अंतिम इच्छा यही थी, इसमें कई पीढ़ियां लग सकती है, लेकिन मुझे उम्मीद है कि वह एक दिन जरुर पूरी होगी।” शनिवार पेठ के इसी घर में कभी नाथूराम गोडसे रहा करते थे। अब यह मकान बेहद जर्जर हो चुका है। इस घर में इन दिनों कई छोटी-छोटी प्रिटिंग प्रेस हैं।

टेलरिंग का काम करता था नाथूराम
नाथूराम गोडसे अखबार दैनिक अग्रणी-जो बाद में हिंदू राष्ट्र हो गया के संपादक थे। अजिंक्य के मुताबिक, नाथूराम गोडसे संपादक से पहले एक टेलर थे और वे आरएसएस की वर्दियां सिलने का काम करते थे। इसके लिए वे बहुत कम पैसे लिया करते थे। इस कारण गिरफ्तारी के बाद उनका संबंध आरएसएस से भी जोड़ने का प्रयास किया गया था। उनके पास उस जमाने में एक कार भी हुआ करती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *