Delhi zoo में मृत पाए गए सभी सारस के सैंपल में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं : अधिकारी

Delhi zoo में मृत पाए गए सभी सारस के सैंपल में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं : अधिकारी

दिल्ली जू में चार सारस मृत पाए गए थे, इनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

Bird Flu Scare:दिल्ली के चिड़ियाघर (Delhi zoo) में सभी मृत सारस पक्षियों से लिए गए 12 नमूनों में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई है. अधिकारियों ने शुक्रवार को इस बारे में बताया. एक सप्ताह पहले ही चिड़ियाघर परिसर में एक पक्षी में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी.दिल्ली सरकार के पशुपालन विभाग के निदेशक डॉ. राकेश सिंह ने बताया, ‘‘कुछ दिन पहले दिल्ली के चिड़ियाघर में चार सारस पक्षी मृत पाए गए थे. सोमवार को इनके 12 नमूने एकत्र किए गए और उन्हें जांच के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान (NIHSD), भोपाल भेजा गया था.” उन्होंने बताया कि सभी 12 नमूनों में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई है. पिछले सप्ताह दिल्ली चिड़ियाघर में एक मृत उल्लू में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी.

यह भी पढ़ें

दिल्ली में 6 जनवरी से अब तक 1200 से ज्यादा पक्षियों की मौत, लेकिन…

चिड़ियाघर के निदेशक रमेश पांडे ने बताया, ‘‘वे सभी दिशा-निर्देशों का पालन कर रहे हैं और स्थिति पर कड़ाई से निगरानी कर रहे हैं.” उन्होंने कहा, ‘‘चिड़ियाघर परिसर में पक्षियों पर नजर रखने के लिए ‘ईबर्ड’ मोबाइल ऐप्लिकेशन (Mobile application) का इस्तेमाल किया जा रहा है.” यह पहला मौका है जब बर्ड फ्लू महामारी के दौरान पक्षियों की निगरानी और उन पर नजर रखने के लिए इस ऐप्लिकेशन का इस्तेमाल किया जा रहा है.सिंह ने कहा कि बर्ड फ्लू की स्थिति के मद्देनजर दिल्ली में छह जनवरी से 21 जनवरी के बीच 1,338 पक्षियों के मरने की सूचना है.उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में विभिन्न जगहों लिए गये 207 नमूनों में से अब तक 24 में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है.

 बर्ड फ्लू के कारण अंडे और चिकन खाने से लग रहा है डर, तो प्रोटीन से भरपूर इन 5 फूड्स को खाना शुरू करें!

गौरतलब है कि अधिकारियों ने एक मृत कौवे में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद मंगलवार को लोगों के लाल किला में प्रवेश पर शुक्रवार तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया. लाल किला परिसर में 10 जनवरी को करीब 15 कौवे मृत पाए गए थे.
 पिछले सप्ताह नगर निगमों ने पार्कों में कौवों और बतखों से लिए गये नमूनों और राष्ट्रीय राजधानी की झीलों से लिए गये पक्षियों के नमूनों में बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद मुर्गें-मुर्गियों तथा उनके प्रसंस्कृत मांस की बिक्री एवं भंडारण पर अस्थायी रोक लगा दी थी. बर्ड फ्लू पर नियंत्रण पाने के लिए संजय झील में करीब 400 बतखों को 11 जनवरी को मार दिया गया.
 दिल्ली सरकार ने भी शहर के बाहर से आने वाले मुर्गे-मुर्गियों के पैकेटबंद एवं प्रसंस्कृत मांस की बिक्री पर रोक लगा दी थी और पूर्वी दिल्ली में गाजीपुर मुर्गा मंडी को 10 दिन के लिए बंद करने का आदेश दिया था. गाजीपुर मुर्गा मंडी से लिए गये सभी 100 नमूनों में संक्रमण की पुष्टि नहीं होने के बाद यह प्रतिबंध हटा लिया गया है. गाजीपुर मुर्गा मंडी एशिया की सबसे बड़ी मुर्गा मंडी है.

Newsbeep

दिल्ली के चिड़ियाघर में बर्ड फ्लू का पहला मामला

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *