Jaipur News: Poonia ने किया Gehlot सरकार की योजना का स्वागत, बोले- जवाबदेही भी तय हो

Jaipur: राजस्थान (Rajasthan) में स्वास्थ्य बीमा (Health insurance) के क्षेत्र में नई शुरूआत हो गई है. अब प्रदेश में आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना (Ayushman Bharat-Mahatma Gandhi Rajasthan Health Insurance Scheme) के नये चरण की शुरुआत हो गई है. इस योजना से प्रदेश के लाखों लोगों को मेडिकल सुविधाओं का फ़ायदा मिलेगा. 

योजना की लॉन्चिंग पर बीजेपी (BJP) के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया (Satish Poonia) ने उम्मीद जताते हुए कहा कि सरकार इसके बेहतर क्रियान्वयन पर भी ध्यान देगी. पूनिया ने योजना में केन्द्र की हिस्सेदारी की बात की तो साथ ही भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना (Bhamashah Swasthya Bima Yojana) बंद होने और नई योजना शुरू होने की बीच की अवधि में जनता को हुए नुकसान का मुद्दा भी उठाया. बीजेपी का कहना है कि इस मामले में भी जवाबदेही तो तय होनी ही चाहिए. 

यह भी पढ़ें- Jaipur News: Rajasthan सरकार अब 1.10 करोड़ परिवारों को देगी ये खास सुविधा

प्रदेश में स्वास्थ्य बीमा योजना नये स्वरूप में लागू हो गई है. भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना की जगह अब आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के दायरे में राजस्थान के पात्र लोग आएंगे. भामाशाह स्वास्थ्य बीमा और केन्द्र की आयुष्मान भारत योजना में कुछ सुधार करके राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) ने यह योजना लागू की है. सरकार को उम्मीद है कि इस योजना से प्रदेश की बड़ी जनसंख्या को फायदा होगा. 

बीजेपी के प्रदेशाध्य सतीश पूनिया ने भी स्वास्थ्य बीमा योजना का स्वागत तो किया है लेकिन साथ ही उनका कहना है कि केवल शीर्षक बदलने के फेर में प्रदेश की जनता लम्बे समय तक निशुल्क इलाज मिलने से वंचित रही. पूनिया ने कहा कि इसके कारण कोरोना के दौर में कई नॉन कोरोना मरीजों को इलाज नहीं मिलने के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan Samachar: Ashok Gehlot ने PM Modi को लिखा पत्र, GST को लेकर की यह मांग

पूनिया ने कहा कि नई योजना में केन्द्र की हिस्सेदारी भी है, जिसमें लाभार्थियों के लिए बड़ी हिस्सा राशि केन्द्र सरकार देगी. इसके साथ ही उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि भामाशाह बंद होने और नई योजना शुरू होने के बीच में लोगों को जो नुकसान हुआ उसके लिए किसकी जवाबदेही तय होगी?

योजनाएं दोनों ही जनहित की हैं 
भामाशाह और आयुष्मान भारत में से बेहतर योजना के सवाल पर पूनिया ने कहा कि योजनाएं दोनों ही जनहित की हैं लेकिन उनके असरदार क्रियान्वयन की अहमियत सबसे ज्यादा है. पूनिया ने कहा कि पंजाब और दूसरे किसी प्रदेश का व्यक्ति जोधपुर एम्स में आयुष्मान भारत का फायदा ले सकता है लेकिन अभी तर राजस्थान के व्यक्ति को इसका लाभ नहीं होता था, ऐसे में अब नई योजना से लोगों को इलाज मिल जाए तो आमजन लाभान्वित होंगे. 

वंचित तबके के लोगों को मिले फायदा
पूनिया ने कहा कि प्रदेश में सरकार बदलने के बाद से कई प्राइवेट अस्पतालों के बिल बकाया थे और ऐसे में उन्होंने बीमित लोगों को सेवाएं देने से इनकार कर दिया, जिसका नुकसान लोगों को हुआ. पूनिया ने कहा कि जब तक वंचित तबके के लोगों को इसका फायदा नहीं मिलता, तब तक कोई योजना सफल नहीं कही जा सकती. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *