US की उप-राष्ट्रपति बनकर कमला हैरिस ने रचे कई इतिहास, शपथ लेने के बाद किया यह पहला ट्वीट

US की उप-राष्ट्रपति बनकर कमला हैरिस ने रचे कई इतिहास, शपथ लेने के बाद किया यह पहला ट्वीट

कमला हैरिस एक के बाद एक कई रिकॉर्ड बनाते हुए यहां पहुंची हैं.

खास बातें

  • कमला हैरिस बनीं अगली अमेरिकी उप-राष्ट्रपति
  • एक साथ रचे कई इतिहास
  • शपथ लेने के बाद पहले ट्वीट में दिया शक्तिशाली संदेश

कमला हैरिस (Kamala Harris) ने बुधवार को अमेरिका की पहली महिला उप-राष्ट्रपति पद की शपथ लेकर इतिहास रच दिया. वो अमेरिका की पहली महिला, पहली अश्वेत और पहली एशियन अमेरिकन मूल की उप-राष्ट्रपति बनी हैं. उन्होंने एक साथ कई पैमानों पर इतिहास बनाया है. शपथ लेने के बाद उन्होंने अपने यूएस सरकार के अकाउंट से पहला ट्वीट किया और बस तीन शब्दों में अपना उद्देश्य सामने रखा- ‘Ready to Serve’ यानी सेवा करने को तैयार. 

यह भी पढ़ें

कमला हैरिस पिछले साल नवंबर में उप-राष्ट्रपति पद पर चुने जाने के बाद से यूएस गवर्नमेंट का यह अकाउंट चला रही हैं, जिसपर उनके 7 मिलियन फॉलोअर्स हैं. कमला हैरिस के अपने पर्सनल ट्विटर अकाउंट पर 15 मिलियन फॉलोअर्स हैं. उनके पर्सनल ट्विटर अकाउंट का बायो भी अब बदल दिया गया है. 

भारतीय और जमैकन मूल की कमला हैरिस को यूएस सुप्रीम कोर्ट की जज सोनिया सोतोमेयर ने पद की शपथ दिलाई. उनके पद पर चयनित होने को दुनिया भर में लिंग और नस्लभेद के खिलाफ लड़ाई में बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखा जा रहा है. कमला हैरिस ने जीतने के बाद अपने पहले भाषण में ही कहा था कि इस पद पर आने वाली पहली महिला हैं, लेकिन आखिरी नहीं. उन्होंने अपनी भारतीय मूल की मां को भी श्रद्धांजलि दी थी और कहा कि वो उन सभी महिलाओं की शुक्रगुजार हैं, ‘जो उनसे पहले आईं.’

यह भी पढ़ें : मिलिए अमेरिका के पहले ‘सेकेंड जेंटलमैन’ डगलस एमहॉफ से…

उन्होंने कहा था कि ‘मैं यहां उन महिलाओं की वजह से हूं, जो मुझसे पहले आईं. मेरी यहां मौजूदगी का सबसे ज्यादा श्रेय मेरी मां- श्यामला गोपालन हैरिस को जाता है, जो हमेशा हमारे दिल में हैं.’

अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस एक के बाद एक रिकॉर्ड तोड़ने के लिए जानी जाती रही हैं. बता दें कि कमला हैरिस ने अपने करियर की शुरुआत 90 के दशक में अटॉर्नी के तौर पर की थी. यूएस सीनेट में आने वाली वो पहली भारतीय अमेरिकी थीं. वहीं, सैन फ्रांसिस्को में डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी के पद पर नियुक्त होने वाली पहली अश्वेत महिला थीं. इसके अलावा जब वो 2010 में कैलिफोर्निया की अटॉर्नी जनरल बनी थीं, तो ऐसा करने वाली वो पहली महिला और पहली अश्वेत अमेरिकी बनी थीं.

Newsbeep

(एजेंसियों से इनपुट के साथ)

अमेरिका में नए प्रशासन ने संभाला कामकाज, जो बाइडेन बने 46वें राष्ट्रपति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *