सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को जुलाई तक के लिए किया गया अग्र‍िम भुगतान : सूत्र

सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को जुलाई तक के लिए किया गया अग्र‍िम भुगतान : सूत्र

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield Vaccine) बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट और कोवैक्सीन बनाने वाली भारत बायोटेक को केंद्र ने जुलाई तक के लिए अग्रिम भुगतान किया है. यह जानकारी सोमवार रात को वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया. सूत्रों के मुताबिक वैक्सीन के उत्पादन के लिए सीरम इंस्टीट्यूट के लिए 3000 करोड़ रुपये और भारत बायोटेक के लिए 1000 करोड़ रुपये का अग्रिम भुगतान किया गया है.  सूत्रों ने पुष्टि की कि सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक दोनों को “तुरंत” लाभ मिलेगा.

यह भी पढ़ें

बता दें कि कुछ सप्ताह पहले, अंतर-मंत्रालयी टीमों ने यह जानने के लिए भारत में दो मुख्य टीका विनिर्माताओं के स्थलों का दौरा किया था कि उत्पादन में किस तरह तेजी लाई जा सकती है. विभाग ने कहा था कि इस अवधि के दौरान, टीका विनिर्माताओं के साथ बनाई जा रही योजनाओं के संबंध में व्यापक समीक्षाएं और व्यवहार्य अध्ययन किए गए हैं.

जैव-प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) ने कहा कि टीका उत्पादन में वृद्धि की योजना के तहत भारत बायोटेक लिमिटेड और सार्वजनिक क्षेत्र के अन्य उपक्रमों की क्षमताओं को आवश्यक अवसंरचना और प्रौद्योगिकी के साथ उन्नत किया जा रहा है.  ‘कोवैक्सीन’ का विकास हैदराबाद आधारित भारत बायोटेक और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने किया है. यह उन दो टीकों में शामिल है, जिनका इस्तेमाल वर्तमान में भारत में कोविड रोधी टीकाकरण में किया जा रहा है. विभाग ने कहा था कि टीका उत्पादन में वृद्धि के लिए केंद्र भारत बायोटेक के बेंगलुरु में स्थापित नए प्रतिष्ठान को लगभग 65 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *